Please reload

Recent Posts

Malmas 2020 | Adhik Maas | Purushottam Maas me kya karein?

September 4, 2020

1/10
Please reload

Featured Posts

लग्न के आधार पर कुंडली मिलान

October 4, 2017

 

सर्व विदित है की किसी के स्वाभाव और देह के बारे में जानना हो तो लग्न का विचार करें | लग्न में स्थित राशि और ग्रह व्यक्ति विशेष के बारे में काफी जानकारी देते है| यही कारण है की वैदिक ज्योतिष में लग्न की महत्ता सर्वोपरि है| जब दो व्यक्तियों को जीवन भर के लिए साथ जोड़ा जाए तो दोनों के लग्नो का तालमेल अवश्य देखना चाहिए| लग्न मिलान एक तरह से व्यक्ति की समझ का मिलान है|

 

लग्न मिलान साधन

 

लग्न में स्थित राशि को तीन भागो में स्वाभाव के अनुसार विभाजित किया जाता है|

 

 

 

 

 

  • चर लग्न का स्वभावचर लग्न में जन्मे व्यक्ति को जीवन में बदलाव पसंद होता है| तरक्की पसंद व्यक्तितत्व होता है | घुमने का शौक रखता है और निर्णय शीघ्र लेता है| एक जगह स्थिर हो कर काम करने में परेशानी आती है|

  • स्थिर लग्न का स्वाभाव – स्थिर लग्न में जन्म हो तो व्यक्ति परिवार से जुड़ा रहता है| परिवार के आदर्श और संस्कृति को दिल से मानता है | जीवन से संतुष्ट होते है | बदलाव पसंद नही होता है जिस ढर्रे पर जीवन चल रहा हो उसे बदलने में परेशानी आती है| बहुत सोच कर और देरी से निर्णय लेते है|

  • द्विस्वभाव लग्न – जैसा की नाम से ज़ाहिर है की इन लग्नो में व्यक्ति संतुलन बनाने का प्रयास करता है| ऐसे व्यक्ति दुसरो के लिए अच्छे परन्तु अपने लिए जीवन में कुछ ख़ास नही कर पाते है|  समाज इनके बारे में कैसी छवि रखता है इसका विचार बहुत अधिक करते है| यह चर और स्थिर की बीच की सीढी है|

उपरोक्त स्वाभाव के अनुसार

 

 

 

 

इस प्रकार से लग्न मिलान करने से दोनों के बीच साम्जस्यता अच्छी रहती है और जीवन सुचारू रूप से चलता है| अगले अंक में जानेंगे की किस प्रकार राशि तत्व के आधार पर लग्न मिलान किया जाता है|

 

 

कृपया वह लोग जिनका विवाह कुंडली मिलाकर हुआ हो और उसके बाद भी वैवाहिक जीवन सुखमय न हो अपनी कुंडली इस फोरम पर भेजे| लेखक से संपर्क करने के लिए क्लिक करें | पूरा लेख पढने के लिए Join करना न भूलें | आपको यह लेख कैसा लगा इस बारे में अपनी राय अवश्य दें | 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Follow Us